अयोध्या में राम मंदिर के भूमि पूजन कल – प्रधामंत्री मोदी करेगें शिल्या न्यास

अयोध्या में राम मंदिर के भूमिपूजन  समारोह में होंगे सिर्फ 175 लोग – क्या ख़ास हैं 
अयोध्या, 3 अगस्त। अयोध्या के राम मंदिर ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने 5 अगस्त को राम मंदिर निर्माण के लिए हो रहे भूमिपूजन के बारे में प्रेस को जानकारी दी। उन्होंने कहा कि तमाम संत यहां पहुंच गए हैं। संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत, सुरेश भैया जोशी भी कल रात तक पहुंचेंगे। हमने 133 संतों को निमंत्रण भेजा है। नेपाल के संत भी पहुंचेंगे। नेपाल का बिहार और यूपी से रिश्ता है।
उन्होंने कहा कि लोगों को पूर्वाग्रह है, हमने सिर्फसंतों को बुलाया है। कुछ संतों को दलित कहते हैं। संत महात्मा मिलाकर 175 लोग यहां होंगे। हमने इकबाल अंसारी को बुलाया है। हमने फैजाबाद के निवासी मोहम्मद शरीफ को बुलाया है। वे पद्मश्री हैं, वे लाशों का दाह संस्कार कराते हैं। पहले ये निमंत्रण अयोध्या के लोगों को दिया जा रहा है जो कि यहां के निवासी हैं। हमने अयोध्या के उन्हीं लोगों को बुलाया है जिनके परिवार का कोई 1992 में 1990 में गोली से मारा गया है। चंपत राय ने कहा कि निमंत्रण पत्र पर सिक्योरिटी कोड है। यह सिर्फ एक बार प्रयोग हो सकता है। परिवार में कोई इलेक्ट्रॉनिक उपकरण नहीं ले जाए जा सकेगा।
हर निमंत्रण पत्र पर सिर्फ एक व्यक्ति को जाने की अनुमति होगी। ये निमंत्रण पत्र अहस्तांतरणीय हैं।इसमें मोहन भागवत, योगी जी, आनंदीबेन पटेल का नाम होगा। किसी को वाहन पास नहीं दिया जा रहा है। कार्यक्रम दो बजे तक पूरा हो जाएगा, ऐसा अनुमान है। उन्होंने कहा कि 18 अप्रैल से देवताओं का आह्वान शुरू किया गया। जन्मस्थान पर पूजा शुरू की गई। 108 दिन से स्थान देव की पूजा की जा रही है। आज वहां गणपति की पूजी शुरू की गई। कल हम हनुमानगढ़ी की पूजा करेंगे। पांच अगस्त गर्भगृह में पूजा की जाएगी। एक शिलापट्ट का अनावरण भी होगा। यूपी सरकार ने मंदिर मॉडल का एक डाक टिकट जारी किया है। उसका भी अनावरण प्रधानमंत्री करेंगे। समारोह में मंच पर संत नृत्य गोपाल दास, आंनदी बेन पटेल, योगी आदित्यनाथ, मोहन भागवत, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रहेंगे। यही पांच लोग मंच पर रहेंगे। उन्होंने कहा कि कुछ लोग कह रहे हैं कि भगवान हरे रंग के कपड़े पहनेंगे। कुछ लोगों को क्यों भय है। इससे प्रधानमंत्री, योगी जी का ट्रस्ट का लेना देना नहीं है। ये परंपरा की बात है। हरा रंग खुशहाली का रंग है। ऐसी बेतुकी बातों की चर्चा नहीं करनी चाहिए। किसी रंग का कोई निवेश नहीं है। भगवान क्या पहनेंगे ये पुजारी तय करते हैं। ये परंपरा की बात है। प्रतीकात्मक शिलान्यास भी किया जाएगा। 9 शिलाएं होंगी जिनकी पूजा प्रधानमंत्री मोदी करेंगे।
चंपत राय ने कहा कि भूमिपूजन के लिए देश की संपूर्ण नदियों का जल मंगवाया गया है। अनेक लोग मानसरोवर का जल भी लाए हैं। रामेश्वरम और श्रीलंका से भी समुद्र का जल आया है। लगभग 2000 स्थानों से जल और मिट्टी लाई गई है। ओरिजनल ड्राइंग के आधार पर ही मंदिर निर्माण होगा। जो पत्थर कार्यशाला में तराशकर रखे गए हैं वे सबसे पहले लगेंगे। उन्होंने बताया कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री की तरफ से एक करोड़ रुपये की पहली किश्त आ गई है |

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s