प्रवासी मजदूरो की हत्या की ज़िम्मेदारी कोनसी सरकार लेगी केंद्र या राज्य – राहुल चोधरी  

Corona battle with global epidemic

The rich are suffering the brunt of the flattening of the people - 
the people of India and 130 crore people - administration has been careless - Rahul Chodhari

जयपुर | जयपुर की तंग गलियों में चार दिवारी क्षेत्र में इन दिनों कुछ युवा जरूरतमंद ,गरीबो को राशन पहुँचाने व् खाना खिलाने का काम करते देखे जा रहे है , पिछले कुछ दिनों में पेंटर कॉलोनी व्  जयपुर के कई क्षेत्रो में इन्हें देखा गया जब हमारी टीम ने इनसे बात की तो पता लगा की इनमें से कुछ पत्रकार है, कुछ वामपंथी छात्र संगठनों से है, कुछ वामपंथी पार्टियों से हैं, कुछ जमीयत उलेमा हिन्द से है ये ज्यादातर जयपुर से हैं कुछ बाहर के है और लॉक डाउन में फँस गए है

पूछताछ करने पर पता चला कि इनमें से एक पत्रकार भी है जिनका नाम ईशा शर्मा है जो न्यूज़ बाईट में कंटेंट एडिटर है और लोक डाउन में फंस गई हैं और वर्क फ्रॉम होम कर रहीं है और बाकी समय मे माइग्रेंट वर्कर्स को खाना बाँटने का काम करती है, इस हेतु वो पूरा दिन ये योजनाएं भी बनाती है कि कहा से खाना मिल सकता है |

दूसरा नाम है राहुल चौधरी जो राज्य सरकार की लॉक डाउन वाले दिन से ही सड़को पर है और अपने दोस्तों से आटा , दाल , चावल माँग कर मजदूरों की मदद करने की कोशिश में रहते है कि जहाँ तक हो कोई भूख से न मरे राहुल ने कहा की आज देश में जो यह विश्विक महामारी फेली है “कोरोना” इस में सबसे बड़ा फेलियर केंद्र की मोदी सरकार का रहा है ,

यह कोरोना सक्रमण विदेश से आने वाले लोग साथ लेकर आयें है अगर इनका उचित समय पर भारतीय एयरपोर्ट पर भी जांच व् स्क्रीनिंग सही रूप से हो जाती व् बाहर से आने वालें लोगों को सरकार 14 दिन क्वॉरेंटाइन  कर देती तो आज यह दिन देखना नहीं पड़ता ,लोग भूखे मर रहे है ओर राज्य सरकार ने आज तक भी राशन व्यस्था चालू नही की है, यहाँ मजदूर बस्तियां भूखे मजदूरों से भरी पड़ी है ,

rahul choudhary with sumitra choupda

मजदूर धीरे धीरे भूख से मर रहा है और कही भूख और कोरोना की जंग में ये कोरोना से पहले भूख से न हार जाए, साथ ही हमे पता लगा राहुल सुबह से लेकर रात 2 से 3 बजे तक सड़को पर लोगो की मदद में रहते हैं , इसी दिन जब राहुल नाहरिका नाका के इलाके में मजदूरों को खाना बाँट रहे थे तभी हड़कंप मच गया और भूख से परेशान मजदूरों ने इनकी गाड़ी को घेर लिया तभी RAC के जवानों ने उनपर लाठी चार्ज करना सुरु कर दिया तब उनके साथ केवल उनकी पत्रकार साथी ईशा थी पर राहुल और ईशा ने इसका जमकर विरोध किया तब पुलिस राहुल और ईशा पर भी हमले के लिए लाठियां लेकर दौड़ी पर राहुल और ईशा न उनके डंडों से डरे न उनकी धमकियों से ओर उनका जमकर सामना किया,

हमने वो वायरल वीडियो भी देखा जिसमे पुलिस उनपर हमला करने को दौड़ी थी , बातों ही बातों में पता चला इनको ये हिम्मत उनकी ताइ जो अब इस दुनिया मे नही रही कॉमरेड श्रीलता स्वामीनाथन जो कि एक बहोत बड़ी पोलिटिकल एक्टिविस्ट रही उनसे ओर हाल में भाकपा (माले) के राज्य सचिव महेंद्र चौधरी से मिलती है जिन्होंने अपना सारा जीवन संघर्षो में बिता दिया और इमरजेंसी ओर उसके बाद भी जनता की लड़ाई लड़ते हुवे कई बार जेलों में भी रहे ।

ritansh aazad

बातों ही बातों में राहुल से जब हमने पूछा कि पुलिस से डर नहीं लगता तब उन्होंने हंसते हुवे कहाँ क्या देश के लिए जान कुर्बान करने वाले सेनिको को लगता है क्या क्रांतिकारी जो शहीद हुवे उन्हें लगता था, मेरी तो तम्मान ही यही है कि मजदूरों और वर्ग संघर्ष की लड़ाई लड़ते हुवे किसी दिन पुलिस के लाठी गोली से मेरी मौत हो उन्होंने कहा बचपन से पुलिस की बहोत लाठियां खाई है पर आज पुलिस भी जिस तरह से अपनी जान की परवाह न करते हुवे सड़को पर 16 से 24 घन्टे ड्यूटी कर रही है जिसमे सबसे ज्यादा इनकी जान को खतरा है इनकी इसी बात पर कुछ पुलिस वालों की गुंडागर्दी कोई मायने नहीं रखती ओर में दिल से इनके होसलो को सलाम करता हु आज अगर चुल्लू भर पानी डूबना है तो वो उन नेताओं को है जो घरों में दुबक कर बैठे है जब उनकी जनता भूखी है।

स्कील कुरेशी ने बताया कि आज प्रधानमंत्री मोदी जी ने जो लॉक डाउन किया है में उसका समर्थन करता हूँ यह समय की मांग है लेकिन आप की जमीनी  तैयारिया थी ही नहीं आज देश का मजदुर पैदल ही 500 / 1000 या उससे भी अधिक किलोमीटर भूखे पेट चलने को तैयार है और वह भूख से मर भी रहा है उसी लाश सडको पर लावारिश पड़ी मिल रही है यह मजदुर कोरोना से तो पता नहीं कब मरेगा लेकिन भूख से तो आज रोड़ो पर मरता दिख रहा है में तो इसे केंद्र व् राज्यों की लापरवाही द्वारा हत्या की श्रेणी में ही रखूंगा ओर इसी लिए बस आज इनकी भूख से मौत न हो जाये इस लिए सड़कों पर हूँ।

इन्ही के बीच के जानी मानी समाज सेविका जो NFIW की महासचिव है निशा सिद्दू जी वो भी अचानक से हमे दिखाई पड़ी जब पुलिस वाले मजदूरों पर डंडे चला रहे थे उनको सिंधी कैम्प से भगाने के लिए तो वो अचानक से बीच मे आ गई जैसे उन मजदूरों की ढाल बनकर आ गई हो, जैसा आप सभी को पता है इनकी इकलौते पुत्र समर्थ सिंह सिद्दू का अभी 15 तारीख को ही टोंक रोड पर एक्सीडेंट में देहांत हो गया था अभी बेटे की चिता की आग ठंडी भी नही हुवी थी कि इनको इस तरह सड़को पर मजदूरों के लिए जान हतेली पर लिए देख कर ऐसा लगा मानो झांसी की रानी एकबारगी अपनी सेना के लिए सब कुर्बान करने आ गई हो, सलाम है उनके हौसले को , उनसे बात तो नही हो पाई पर पता चला कि वो कहती हैं कि अगर समर्थ होता तो वो भी आज यही करता इन मजदूरों को भूखे पेट न मरने देता न पुलिस से पीटने देता , ओर मेरे जीवन का अब एक ही लक्ष्य है वर्ग संघर्ष।

वही पर कुछ युवा भी थे जिनमें AIRSO के राज्य संयोजक रितांश जो पहले दिन से सक्रीय हैं, जयपुर अगेंस्ट ब्रूटलिटी की मुहिम चलाने वाले बप्पा आदित्य जिनको हाल ही में दिल्ली में केवल इस लिए गिरफ्तार कर लिया गया था कि वो एक उबेर कैब में बैठ कर साहिन बाग पर बात कर रहे थे ।

ये सभी युवाओं के भी घर परिवार है, राहुल के तो 2 बेटियां है 4 और 6 साल की पर फिर भी जहाँ आज हमारे नेता घरों में कोरोना के डर से दुबके हुवे है ये सभी ने कसम खा रक्खी है कि चाहे कोरोना मार दे पर भूख के खिलाफ हम लड़ेंगे ओर मजदूर को नही मरने देंगे।

वाकई इन्हें देख कर लगा कि इनसभी युवाओं में एक भगतसिंग जिंदा है और एक झांसी की रानी इनकी ढाल बनकर खड़ी है

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s