बाल-अधिकारों को शिक्षा से जोड़ना समय की ज़रूरत – हेमलता कांसोटिया

जयपुर – बाल दिवस पर रंगारंग कार्यक्रम –

बाल अधिकारों के पोस्टर का विमोचन –

जयपुर | बाल दिवस के अवसर पर बाल -श्रम मुक्त जयपुर कार्यक्रम के अंतर्गत सेवा भारत और लेबर एजुकेशन एंड डेवेलपमेंट सोसाइटी के द्वारा बाल अधिकारों को लेकर ” संगोष्ठी व् बाल रंग ” कार्यक्रम आयोजित किया गया |

कार्यक्रम का मुख्य उदेश्य बाल-अधिकर को शिक्षा से जोड़ना  , समाज के अंतिम पंक्ति में खड़े स्कूल से बाहर के बच्चों को शिक्षा की मुख्य धारा से जोड़ना है ताकि उनका बचपन बाल -श्रम , सड़क , यौन -शोषण , ख़रीद-फ़रोख आदि में खत्म करना था।

राजस्थान राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग से सीमा जोशी ने बच्चों को बाल -दिवस की शुभकामनाएं दी, साथ ही उन्हें चाईल्ड लाईन के बारे में  बच्चो को अवगत कराया ।

बाल कल्याण बोर्ड व किशोर न्याय बोर्ड के प्रतिनिधियों ने बच्चों की सुरक्षा के बारे में बताया और बच्चों की सुरक्षा के विषय में चिंता ज़ाहिर करते हुए बात की ,

चाईल्ड राईट वॉच –

बसंत हरियाणा ने खेलने के अधिकार को संवैधानिक अधिकार बताते हुए बच्चों को ज्यादा से ज्यादा पार्क मुहैया कराने की बात की । राजस्थान नागरिक मंच से आये अनिल गोस्वामी जी ने संविधान के शिक्षा के मौलिक आधिकार पर बात करते हुए बताया की हर बच्चे को स्कूल देना सरकार की जिम्मेदारी है । समाजिक कार्यकर्ता कविता जी , मनीष जी , हेमलता जी , मोहनलाल पारीक जी और अनन्या  ने बाल -श्रम मुक्त जयपुर पर अपनी बात रखी और आने वाले समय में बच्चों को शिक्षा के अधिकार से जोड़ने की शपथ ली । इसके अलावा बच्चों ने रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किये गयें ,बच्चों द्वारा बनायी गई लघु फिल्म ‘ मेरी कहानी मेरी जुबानी’ भी दिखायी गई । यह फिल्म शिक्षा से वंचित बच्चों पर आधारित थी ।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s